बाजार अनुसंधान संगठन Numr ने हाल ही में भारतीय बैंकों के लिए महानगरों और एनसीसीएस ए1 से संबंधित लोगों के बीच एक एनपीएस सर्वे किया है। इस सर्वे से सामने आई रिपोर्ट के अनुसार, सबसे ज्यादा 36 फीसद लोगों ने एचडीएफसी को अपना प्राथमिक बैंक बताया। इसके बाद दूसरे नंबर पर 33 फीसद के साथ स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) रही। वहीं तीसरे नंबर पर आसीआईसीआई बैंक और चौथे नंबर पर एक्सिस बैंक रही। सर्वे की रिपोर्ट के अनुसार ICICI बैंक को 26 फीसद लोगों और Axis बैंक को 22 फीसद लोगों ने अपना प्राथमिक बैंक बताया।
 
 
क्या है 
  1. एनपीएस की बात करें, तो कोटक महिंद्रा 68 और एचडीएफसी बैंक 67 के साथ सबसे अधिक एनपीएस वाले बैंक बने। इन दोनों बैंकों की साल 2018 की वार्षिक वित्तीय रिपोर्टों का अध्ययन कंपाउंड ग्रोथ रेट क्रमशः 13 फीसद और 16 फीसद बताता है।
  2. यह स्पष्ट रुप से कहा जा सकता है कि एनपीएस के अधिक होने पर विकास दर भी अधिक होगी। बैंकिंग और वित्तीय क्षेत्र में ग्राहक का अनुभव बड़ा महत्वपूर्ण होता है। एनपीएस प्रणाली कंपनियों को कार्रवाई योग्य डेटा प्रदान करती है। इसका उपयोग कंपनी की विश्वसनीयता को बढ़ाने और ग्राहक को संतुष्ट करने के लिए किया जा सकता है।
  3. नेट प्रमोटर स्कोर (एनपीएस) का उपयोग कंपनियों द्वारा ग्राहकों के विश्वास और संतुष्टि को मापने के लिए किया जाता है। यह बिक्री, विकास और लाभ का एक सटीक अनुमान बताने वाला साबित हुआ है।
  4. कुछ महीने पहले, फोर्ब्स ने विश्व के सर्वश्रेष्ठ बैंकों की रैंकिंग जारी की थी। इस रेंकिंग में भारत में पहले स्थान पर एचडीएफसी रहा था और उसके बाद दूसरे स्थान पर आईसीआईसीआई बैंक रहा। 
  5. वहीं कोटक महिंद्रा बैंक चौथे स्थान पर और एक्सिस बैंक 10 वें स्थान पर रहा। इस रेंकिंग में एसबीआई टॉप 10 में जगह नहीं बना सका था। यह रेंकिंग में 11 वें स्थान पर रहा और बैंक ऑफ बड़ौदा ने 16 वें स्थान पर जगह बनाई।

[printfriendly]