संयुक्त राष्ट्र (यूएन) आमसभा ने शांतिरक्षक अभियानों के लिए बजट में कटौती का फैसला किया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की अगुआई में अमेरिकी प्रशासन लगातार बजट में कटौती के लिए दबाव बना रहा था।

हालांकि अब भी कटौती ट्रंप प्रशासन की इच्छा के अनुरूप नहीं है।

 
क्या है 
  1. 193 सदस्यीय वैश्विक संगठन में 30 जून को बजट को लेकर मतदान हुआ। लंबी बहस के बाद बजट कमेटी में एक जुलाई से शुरू होने जा रहे वर्ष के दौरान 14 शांतिरक्षक अभियानों के लिए कुल 7.3 अरब डॉलर (करीब 472 अरब रुपये) के बजट को मंजूरी मिली। 
  2. इसमें 6.8 अरब डॉलर (करीब 439.36 अरब रुपये) के मूल बजट और दो शांतिरक्षक अभियानों के लिए 50 करोड़ डॉलर (करीब 32.31 अरब रुपये) के अतिरिक्त बजट को स्वीकृति दी गई। पिछले साल के मुकाबले बजट में 57 करोड़ डॉलर (करीब 36.83 अरब रुपये) की कटौती की गई है।
  3. भारत ने यूएन के शांति कोष में पांच लाख डॉलर (करीब 3.23 करोड़ रुपये) का योगदान दिया हैभारत 2005 में शांतिस्थापना आयोग की स्थापना के समय से ही इसका सदस्य है। 
  4. तब से इस कोष में भारत 50 लाख डॉलर (करीब 32.30 करोड़ रुपये) दे चुका है। इस कोष से संघर्ष से जूझ रहे देशों में शांति कार्यो में लगे संगठनों को मदद दी जाती है।