मानव जीवनकाल की सीमा पर अभी भी शोधकर्ताओं और जीवविज्ञानियों में मतभेद व्याप्त है। मानव जीवनकाल की सीमा बताते सिद्धांतों को चुनौती देते हुए कनाडाई शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन के बाद आई रिपोर्ट में कहा है कि इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि मानव जीवनकाल में पहले की अपेक्षा बढ़ोत्तरी बंद हो गई है

इससे पूर्व किये गए अध्ययनों में शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला था कि मानव उम्र की अधिकतम सीमा लगभग 115 वर्ष है

 
क्या है 
  1. हालांकि जर्नल नेचर में प्रकाशित नए अध्ययन के अनुसार, इस तरह की जीवनकाल सीमा का कोई सबूत नहीं मिला है। कनाडा के मैकगिल विश्वविद्यालय के जीवविज्ञानी साइगफ्रेड हेकीमी ने कहा, "यदि इस तरह की अधिकतम आयु सीमा की मौजूदगी है, तो वहां तक अभी हमारी पहुंच नहीं है। हकीमी ने कहा, "हमें नहीं पता है कि उम्र सीमा क्या हो सकती है। 
  2. वास्तव में, मानव जीवन में सुधार करके हम यह दिखा सकते हैं कि अधिकतम और औसत जीवनकाल निकट भविष्य में बढ़ाई जा सकती है"। यद्यपि कुछ वैज्ञानिक तर्क देते हैं कि प्रौद्योगिकी, चिकित्सा के हस्तक्षेप और रहने की स्थिति में सुधार के बाद अधिकतम सीमा पाई जा सकती है।
  3. हकीमी ने कहा, यह भविष्यवाणी करना असंभव है कि इंसानों में भावी जीवनशैली किस तरह हो सकती हैं। तीन सौ साल पहले, बहुत से लोग कम आयु का जीवन जी रहे थे। अगर तब हमने उनसे कहा होता कि एक दिन ज्यादातर इंसान 100 साल तक जीवित रहेंगे, तो उन्होंने हमें जरुर पागल कहा होता।"