चीन और पाकिस्तान के साथ वन बेल्ट-वन रोड समेत कई मुद्दों को लेकर भारत से रिश्ते जटिल होते जा रहे हैं। एक रिपोर्ट में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में पाकिस्तान और भारत के शामिल होने को रेखांकित करते हुए कहा गया है कि सीपीईसी या वन बेल्ड-वन रोड पहल इस क्षेत्र में आर्थिक समन्वय स्थापित करने की बजाए अस्थिरता को बढ़ावा देगा।

इंस्टीटयूट ऑफ डिफेंस रिसर्च एंड एनालिसिस (आईडीएसए) से जुड़े विशेषज्ञ पी शतोब्दन की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और पाकिस्तान के एससीओ में शामिल होने के बीच इस मंच पर विविध प्रकार के हितों के टकराव, आतंकवाद से मुकाबला करने के वैश्विक मुद्दे समेत कई अन्य विषय सामने आयेंगे। ऐसे में कई अवसरों पर भारत का रूख अन्य देशों के अनुरूप नहीं हो पायेगा और झुकाव चीन की ओर भी देखने को मिल सकता है।