भारतीय कप्तान विराट कोहली देश के अकेले क्रिकेटर हैं जो आईसीसी वनडे खिलाड़ियों की रैंकिंग में टॉप दस में शामिल हैं। उन्होंने बल्लेबाजों की सूची में अपना तीसरा स्थान बरकरार रखा है

व्यक्तिगत रैंकिंग के लिये कड़ी टक्कर से (आने वाली) आईसीसी चैंपियन्स ट्रॉफी के महत्व का पता चलता है क्योंकि इसमें भाग लेने वाले आठ टीमों के खिलाड़ी इसमें शामिल हैं और टॉप खिलाड़ियों के बीच बहुत अधिक अंतर नहीं है।

चोटी के तीन बल्लेबाजों दक्षिण अफ्रीका के एबी डिविलियर्स (874 रेटिंग अंक), ऑस्ट्रेलिया के डेविड वार्नर (871 अंक) और कोहली (852 अंक) के बीच केवल 22 अंक का अंतर है।
 
क्या है  
  1. बल्लेबाजों की सूची में टॉप 20 में रोहित शर्मा (12वें), महेंद्र सिंह धौनी (13वें) और शिखर धवन (15वें) नंबर पर शामिल हैं। धवन दो पायदान नीचे खिसके हैं। 
  2. गेंदबाजों की सूची में हालांकि कोई भारतीय टॉप दस में शामिल नहीं है। इस सूची में दक्षिण अफ्रीका के कैगिसो रबादा शीर्ष पर काबिज हैं। बायें हाथ के स्पिनर अक्षर पटेल न्यूजीलैंड के मैट हेनरी के साथ संयुक्त 11वें जबकि अमित मिश्रा 13वें स्थान पर हैं। ये दोनों ही चैंपियन्स ट्राफी के लिये भारतीय टीम में शामिल नहीं हैं। रविचंद्रन अश्विन संयुक्त 18वें स्थान पर हैं। 
  3. चोटी के तीन गेंदबाजों रबादा (724 अंक), इमरान ताहिर (722) और मिशेल स्टार्क (701) के बीच केवल 23 अंकों का अंतर है। 
  4. भारत, दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के चार-चार बल्लेबाज जबकि न्यूजीलैंड के तीन तथा ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के दो-दो बल्लेबाज टॉप 20 में शामिल हैं। 
  5. इसी तरह से गेंदबाजों में बांग्लादेश और इंग्लैंड के तीन-तीन जबकि न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के दो-दो गेंदबाज टॉप 20 में शामिल हैं। 
  6. ऑलराउंडरों की सूची में बांग्लादेश के शाकिब अल हसन शीर्ष पर काबिज हैं। इंग्लैंड के तीन खिलाड़ी इस सूची में शीर्ष दस में शामिल हैं। 
  7. इंग्लैंड को दक्षिण अफ्रीका पर श्रंखला में जीत से दो अंकों का फायदा हुआ। टीम रैंकिंग में भी चोटी की टीमों के बीच बहुत अधिक अंतर नहीं है और इससे पता चलता है कि चैंपियन्स ट्राफी में मुकाबला काफी कड़ा होगा। 
  8. वनडे की चोटी की पांच टीमों में दक्षिण अफ्रीका (122 अंक), ऑस्ट्रेलिया (118), भरत (117), न्यूजीलैंड (114) और इंग्लैंड (112) के बीच अधिक अंतर नहीं है और वे एक दूसरे को पीछे छोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। 
  9. दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, भारत और न्यूजीलैंड पहले भी इस प्रतिष्ठित टूनार्मेंट को जीत चुके हैं जबकि पिछली बार फाइनल में पहुंचने वाला इंग्लैंड इस बार अपनी घरेलू परिस्थितियों में खिताब जीतने की कोशिश करेगा। 
  10. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ श्रंखला में जीत से उसका मनोबल बढ़ा है। एक से 18 जून तक चलने वाले टूनार्मेंट में बांग्लादेश, श्रीलंका और पाकिस्तान जैसी टीमों को टीम रैंकिंग में अपनी स्थिति सुधारने का मौका मिलेगा क्योंकि इंग्लैंड तथा सात अन्य चोटी की टीमों को आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 में सीधा प्रवेश मिलेगा।