सुदूर ब्रह्माांड में उत्पन्न होने वाले गुरुत्व तरंग का पता लगाने की कोशिशें फिर शुरू कर दी गई हैं। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने इसके लिए लीगो (लेजर इंटरफेरोमीटर ग्रैविटेशनल वेव

ऑब्जर्वेटरी) के दो डिटेक्टर को सक्रिय कर दिया है। इस कार्यक्रम का उद्देश्य दो ब्लैक होल के मिलने से पैदा होने वाले गुरुत्व तरंगों का पता लगाना है।

 
लीगो कार्यक्रम के तहत दो अमेरिका में दो डिटेक्टर लगाए गए हैं। पहला वाशिंगटन और दूसरा तीन हजार किलोमीटर दूर लुसियाना में लगाया गया है। तरंग का पता लगाकर अंतरिक्ष में होने वाली घटनाओं के बारे में पता लगाया जा सकेगा। इसमें लगे लेजर, इलेक्ट्रॉनिक्स और ऑप्टिकल उपकरण को एक्टिवेट कर दिया गया है। इससे डिटेक्टर की क्षमता 10 से 25 फीसद तक बढ़ जाएगी। पिछले साल 14 दिसंबर को लीगो के जरिये पहली बार गुरुत्व तरंग का पता लगाया गया था। उसी साल 26 दिसंबर को दूसरी बार ब्लैक होल के मिलने से उत्पन्न होने वाले गुरुत्व तरंग को पकड़ा गया था। यह घटना पृथ्वी से 1.3 अरब प्रकाश वर्ष दूर हुई थी।