नासा ने मंगल, शुक्र और चांद पर पहुंचने के बाद शनि ग्रह पर मिशन भेजने का फैसला लिया है। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने शनि के सबसे बड़े चंद्र टाइटन पर ड्रोन की स्टाइल वाले क्वाडकॉप्टर को भेजने का फैसला लिया है। न्यू यॉर्क टाइम्स के मुताबिक इस मिशन को नासा ने 'ड्रैगनफ्लाइ' नाम दिया है। यह मिशन शनि के चंद्रमा टाइटन पर जीवन की संभावनाओं को तलाशेगाशनि अकेला ऐसा ग्रह है, जिसकी सतह पर पानी की उपलब्धता है
 
क्या है  
  1. इस मिशन को मैरीलैंड स्थित जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी की अप्लाइड फिजिक्स लैबोरेटरी की ओर से तैयार किया जा रहा है। यह स्पेसक्राफ्ट 2026 में लॉन्च किया जाएगा। 
  2. 2034 में टाइटन पर यह पहुंचेगा और ढाई साल तक का वक्त वहां गुजारेगा। ड्रैगनफ्लाई पर लगे कैमरे उड़ान के दौरान तस्वीरें भेजेंगे। इससे धरती पर मौजूद लोगों को शनि के चंद्र की स्थिति के बारे में जानकारी मिल सकेगी।
  3. मिशन का नेतृत्व करने वाले एलिजाबेथ टर्टल ने कहा, 'शुरुआत में हम मिट्टी के ऊपर उड़ान भरेंगे और उसके बाद मैदान का निरीक्षण करेंगे।' उन्होंने अप्रैल में दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि टाइटन में वैज्ञानिक मिशन के लिहाज से काफी अच्छे अवसर हैं।

Print Friendly, PDF & Email