स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवाओं के मोर्चे पर पिछड़े बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और ओडिशा पहले से अधिक फिसड्डी साबित हुए हैं। इसके उलट हरियाणा, राजस्थान और झारखंड में हालात सुधरे हैं।वहीं, चिकित्सा सेवा के मामले में केरल पहले नंबर पर है। पिछली बार के मुकाबले सुधार के मामले में 21 बड़े राज्यों की लिस्ट में बिहार 21वें स्थान के साथ सबसे नीचे है। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2015-16 की तुलना में 2017-18 में स्वास्थ्य क्षेत्र में बिहार का संपूर्ण प्रदर्शन सूचकांक 6.35 अंक गिरा है। 
 
क्या है 
  1. इसी दौरान यूपी के प्रदर्शन में 5.08 अंक, उत्तराखंड 5.02 अंक और ओडिशा के सूचकांक में 3.46 अंक की गिरावट आई है। यह दूसरा मौका है जब नीति आयोग ने स्वास्थ्य सूचकांक के आधार पर राज्यों की रैंकिंग की है। 
  2. संपूर्ण रैंकिंग में 21 बड़े राज्यों की सूची में उत्तर प्रदेश सबसे नीचे 21वें स्थान पर है। उसके बाद क्रमश: बिहार, ओडिशा, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड हैं। वहीं इसमें शीर्ष पर केरल है। 
  3. उसके बाद क्रमश: आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात का स्थान हैं। रिपोर्ट के अनुसार संदर्भ वर्ष 2015-16 की तुलना में 2017-18 में स्वास्थ्य क्षेत्र में बिहार का संपूर्ण प्रदर्शन सूचकांक 6.35 अंक गिरा है। इसी दौरान उत्तर प्रदेश के प्रदर्शन सूचकांक में 5.08 अंक, उत्तराखंड 5.02 अंक तथा ओडिशा के सूचकांक में 3.46 अंक की गिरावट आई।
तीन श्रेणियों में की गई रैंकिंग 
  1. इस रिपोर्ट में पिछली बार के मुकाबले सुधार और कुल मिलाकर बेहतर प्रदर्शन के आधार पर राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों की रैंकिंग तीन श्रेणी में की गई। 
  2. पहली श्रेणी में 21 बड़े राज्यों, दूसरी श्रेणी में आठ छोटे राज्यों एवं तीसरी श्रेणी में केंद्र शासित प्रदेशों को रखा गया। सूचकांक में सुधार के पैमाने पर हरियाणा का प्रर्शन सबसे अच्छा रहा है। 
  3. उसके 2017-18 के संपूर्ण सूचकांक में 6.55 अंक का सुधार आया है। उसके बाद क्रमश: राजस्थान (दूसरा), झारखंड (तीसरा) और आंध्र प्रदेश (चौथे) का स्थान रहा।
  4. इस रिपोर्ट में पिछले बार के मुकाबले सुधार और कुल मिलाकर बेहतर प्रदर्शन के आधार पर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों की रैंकिंग तीन श्रेणी में की गई है। 
  5. पहली श्रेणी में 21 बड़े राज्यों, दूसरी श्रेणी में 8 छोटे राज्यों और तीसरी श्रेणी में केंद्र शासित प्रदेशों को रखा गया है। छोटे राज्यों में त्रिपुरा पहले पायदान पर रहा। उसके बाद मणिपुर, मिजोरम और नगालैंड का स्थान रहा। इसमें सबसे फिसड्डी अरुणाचल प्रदेश (आठवें), सिक्किम (सातवें) और गोवा (छठे) का स्थान रहा। इस लिस्ट में दिल्ली पांचवें स्थान पर है।

Print Friendly, PDF & Email