प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल को अंटार्कटिक सहयोग पर भारत और अर्जेंटीना के बीच फरवरी 2019 में हस्‍ताक्षर किये गये समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया। इस समझौता ज्ञापन से पृथ्‍वी विज्ञान के क्षेत्रों से जुड़ी परियोजनाओं के साथ साथ अंटार्कटिका और दक्षिणी महासागर के प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा करने और उसके संरक्षण के लिए वैज्ञानिक सहयोग स्‍थापित करने में मदद मिलेगी।
 
मुख्‍य विशेषताएं 
  1. अन्‍य बातों के अलावा पृथ्‍वी विज्ञान और जीव विज्ञान के क्षेत्रों के साथ ही अंटार्कटिका और दक्षिणी महासागरों के प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा और उनके संरक्षण से जुड़ी परियोजनाओं में वैज्ञानिक सहयोग;
  2. अंटार्कटिका, उसके पर्यावरण और उसके आश्रित और उससे जुड़ी पर्यावरण प्रणालियों के अध्‍ययन से जुड़ी वैज्ञानिक और ग्रंथात्मक जानकारी का आदान – प्रदान;
  3. वैज्ञानिकों के आदान प्रदान के लिए अवसरों का पता लगाना;
  4. आवश्‍यकता पड़ने पर एक देश के राष्‍ट्रीय अंटार्कटिक कार्यक्रम के वैज्ञानिक और तकनीकी विशेषज्ञों का अन्‍य देश के राष्‍ट्रीय अंटार्कटिक कार्यक्रम में भाग लेना;
  5. संयुक्‍त वैज्ञानिक सम्‍मेलन और कार्यशालाएं आयोजित की जाएं;  जहां कहीं संभव हो, वहां प्रमुख धुव्रीय मंच की बैठकों के दौरान द्विपक्षीय बैठकें आयोजित करें;
  6. संयुक्‍त वैज्ञानिक प्रकाशन;
  7. वैज्ञानिक कर्मियों का प्रशिक्षण;