प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संवर्धन, छात्रों, शिक्षकों, शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों के आदान-प्रदान के जरिए सहयोगी कार्य की मजबूत आधारशिला रखने के लिए भारत के अटल नवाचार मिशन और रूस के निधि ‘प्रतिभा एवं सफलता’ के बीच समझौता-ज्ञापन की जानकारी दी गई। समझौता ज्ञापन पर 5 अक्टूबर, 2018 को हस्ताक्षर किए गए थे
 
क्या है 
  1. समझौता ज्ञापन से विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संवर्धन, छात्रों, शिक्षकों, शोधकर्ताओं और वैज्ञानिकों के आदान-प्रदान के जरिए सहयोगी कार्य की मजबूत आधारशिला रखने के लिए सुविधा होगी।
  2. समझौता ज्ञापन से दोनों देशों के स्कूलों, विश्वविद्यालयों, सांस्कृतिक संस्थानों, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी एवं विशेष शिक्षा संस्थानों, हाइटैक कंपनियों, स्टार्टअप और नवाचार केन्द्रों के बीच रिश्ते स्थापित करने के लिए प्रणाली उपलब्ध हो सकेगी। आशा की जाती है कि इसके तहत नये वैज्ञानिक, ज्ञान के सृजन, बैद्धिक संपदा, नवाचार और उत्पाद विकास को प्रोत्साहन दिया जा सकेगा।‘
पृष्ठभूमि
  1. प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 23-24 दिसंबर, 2015 की अपनी रूस यात्रा के दौरान सोची में साइरियस शिक्षण केन्द्र का दौरा किया था। वहां यह प्रस्ताव किया गया था कि भारतीय छात्रों के साथ काम करने के लिए रूसी छात्रों को भारत आमंत्रित किया जाए। 
  2. अक्टूबर, 2018 के प्रथम सप्ताह में रूसी संघ के राष्ट्रपति श्री व्लादिमीर पुतिन के हाल के भारतीय दौरे की भूमिका के रूप में दस भारतीय छात्रों के साथ काम करने के लिए दस रूसी छात्रों ने भारत का दौरा किया था। 
  3. भारत के यह दस छात्र आईआईटी, दिल्ली के एक नवाचार विकास केन्द्र में स्थित पांच अटल टिंकरिंग लैब से जुड़े थे। यह आदान-प्रदान 01 से 04 अक्टूबर, 2018 तक चला। छात्रों ने पांच सेक्टरों में नये प्रोटोटाइप के विकास की संभावना तलाशने के लिए नवाचार अवधारणा पर काम किया। 
  4. इन पांच सेक्टरों में स्वास्थ्य सुविधा, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, स्वच्छ प्रौद्योगिकी, कृषि प्रौद्योगिकी और स्मार्ट मोबिलिटी शामिल थी। विकसित प्रोटोटाइपों को युवा छात्रों ने 05 अक्टूबर, 2018 को प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और रूसी संघ के राष्ट्रपति श्री व्लादिमीर पुतिन के सामने पेश किया था।
  5. इस समझौता ज्ञापन के जरिए अटल नवाचार मिशन और रूस के निधि ‘प्रतिभा एवं सफलता’ के बीच सहयोग को जारी रखने का प्रस्ताव किया गया है।

Print Friendly, PDF & Email