भारतीय सेना और जापानी सेना ने 14 नवम्बर 2018 को भारत में मिजोरम के वैरेंटे स्थित काउंटर इन्‍सर्जेंसी एंड जंगल वारफेयर स्‍कूल में अपने संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास ‘धर्म गार्जियन-2018’ को सफलतापूर्वक पूरा किया। यह दोनों देशों के बीच सैन्‍य एवं राजनयिक संबंधों को बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्‍वपूर्ण कदम है।
 
क्या है 
  1. इस संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास के तहत शहरी एवं अर्द्ध-शहरी दोनों ही क्षेत्रों या इलाकों में उग्रवाद एवं आतंकवादी घटनाओं से निपटने के लिए सैन्‍य दलों को प्र‍शिक्षित एवं संबंधित क्षमता से लैस या युक्‍त करने पर फोकस किया गया। 
  2. इस सैन्‍य अभ्‍यास के प्रतिभागियों को आरंभ में एक-दूसरे के संगठनात्‍मक स्‍वरूप, सामरिक अभ्यास एवं नियोजन प्रक्रिया से अवगत कराया गया और फिर इसके बाद ही संयुक्‍त सामरिक अभ्‍यासों का क्रम शुरू हुआ।
  3. सैन्‍य दलों ने उग्रवाद से निपटने के विभिन्‍न उपायों के तहत अपने सामरिक एवं तकनीकी कौशल को सुदृढ़ बनाया। इसके तहत हथियारों एवं उपकरणों पर संयुक्‍त प्रशिक्षण सुलभ कराया गया। इसके अलावा, उनसे फील्‍ड प्रशिक्षण अभ्यास कराये गये और इसके साथ ही उन्‍नत विस्‍फोटक उपकरणों के संचालन के तौर-तरीके भी बताये गये।
  4. दोनों ही राष्‍ट्रों के पर्यवेक्षकों ने प्रोफेशनल ढंग से दिये गये प्रशिक्षण  की सराहना की जिससे एक-दूसरे की क्षमता पर विश्‍वास और ज्‍यादा बढ़ गया।

[printfriendly]