प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने श्रम एवं रोजगार के क्षेत्रों में प्रशिक्षण और शिक्षा के लिए भारत और इटली के बीच समझौता ज्ञापन को अपनी मंजूरी दी है
यह समझौता ज्ञापन निम्नलिखित के माध्यम से कार्य क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षण और शैक्षिक गतिविधियों के विस्तार में सहायता प्रदान करेगा:
 
  1. प्रशिक्षण, कार्य-पद्धतियों और तकनीकियों के बारे में संयुक्त प्रशिक्षण कार्यक्रमों को आयोजित करना;
  2. विभिन्न सामाजिक भागीदारों के लिए नए प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित करना;
  3. श्रम रोजगार के बारे में विभिन्न विषयों में विशेष रूप से तैयार प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन करना;
  4. प्रशिक्षण कार्य-पद्धतियों का मूल्यांकन करना;
  5. विशेष रूप से श्रम प्रशासन के संदर्भ में, प्रशिक्षण कार्यक्रमों के बारे में अच्छी कार्यप्रणाली का आदान-प्रदान करना; प्रशिक्षण मॉड्यूल की आपूर्ति और सुविधा में एक-दूसरे की मदद करना तथा अध्ययन-भ्रमणों का आयोजन करना; और
  6. ज्ञान और जानकारी साझा करने के लिए प्रशिक्षकों का आदान-प्रदान करना
मुख्य प्रभाव  
  1. इस समझौता ज्ञापन का मुख्य प्रभाव कार्य के क्षेत्र में बदलाव से उत्पन्न होने वाली चुनौतियों से निपटने में दोनों संस्थानों की तकनीकी क्षमताओं का उन्नयन करने पर पड़ेगा। 
  2. यह अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रमों को विकसित और आयोजित करने की तकनीकी क्षमताओं और वी.वी.गिरि राष्ट्रीय श्रम संस्थान (वीवीजीएनएलआई), नोएडा के एशिया प्रशांत क्षेत्र में एक शीर्ष प्रशिक्षण संस्थान के रूप में क्रमिक विकास को बढ़ाएगा। 
  3. यह समझौता ज्ञापन समस्त एशिया प्रशांत क्षेत्र से सामाजिक भागीदारों के व्यापक क्षेत्र तक अपनी पहुंच का विस्तार करेगा।
पृष्ठभूमि
  1. वी.वी.गिरि राष्ट्रीय श्रम संस्थान (वीवीजीएनएलआई) नोएडा, केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन एक स्वायत्त निकाय है, इसने और अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण केंद्र (आईटीसी - आईएलओ), टूरिन ने 2012 में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे। 
  2. इसने ज्ञान और अनुभव की आपसी साझेदारी के साथ अनेक गतिविधियों में सहायता प्रदान की। समझौता ज्ञापन का उद्देश्य व्यावसायिक सहयोग जारी रखने के लिए संस्थानों के बीच सहयोग को औपचारिक रूप प्रदान करना है।
  3. अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) के अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण केंद्र (आईटीसी) की स्थापना 1964 में टूरिन में हुई थी। तभी से यह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर श्रम के विभिन्न आयामों के बारे में प्रशिक्षण देने के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण केंद्र बिन्दु के रूप में कार्य कर रहा है। 
  4. आईटीसी रोजगार, श्रम, मानव संसाधन विकास और क्षमता निर्माण के बारे में अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञता का व्यापक भंडार है। 
  5. आईटीसी का एक प्रमुख उद्देश्य श्रम और रोजगार के क्षेत्र में प्रशिक्षण गतिविधियों में नियोजित प्रमुख संस्थानों के साथ भागीदारी विकसित करना है

Print Friendly, PDF & Email