GS 1 : CULTURE
31 अक्टूबर, 2018 का दिन इतिहास में दर्ज हो गया है क्योंकि गुजरात में बनी दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा सरदार वल्लभ भाई पटेल की 'स्टैचू ऑफ यूनिटी' का अनावरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया है।दरअसल, यह प्रतिमा  182 मीटर ऊंची है। इससे पहले दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा चीन में 128 मीटर थी। वहीं, 182 मीटर ऊंची दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा का खिताब अपने नाम करने वाली 'स्टैचू ऑफ यूनिटी' से यह खिताब अगले तीन सालों के दौरान छिन सकता है। दरअसल, महाराष्ट्र के मुंबई में अरब सागर में बन रहा शिवाजी स्मारक 190 मीटर होगा। जाहिर है यह 'स्टैचू ऑफ यूनिटी' से 8 मीटर ज्यादा है। तय योजना के हिसाब से यह 2021 तक बनकर तैयार हो जाएगा
इससे जुड़ी खास बातें
  1. सरदार पटेल की इस मूर्ति को बनाने में करीब 2,989 करोड़ रुपये का खर्च आया। कंपनी के मुताबिक, कांसे की परत चढ़ाने के आशिंक कार्य को छोड़ कर बाकी पूरा निर्माण देश में ही किया गया है।
  2. यह प्रतिमा नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध से 3.5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कंपनी ने कहा कि रैफ्ट निर्माण का काम वास्तव में 19 दिसंबर, 2015 को शुरू हुआ था और 33 माह में इसे पूरा कर लिया गया।
  3. इस मूर्ति बनाने वाली कंपनी लार्सन एंड टुब्रो ने दावा किया कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है और महज 33 माह के रिकॉर्ड कम समय में बनकर तैयार हुई है।
  4. इस स्मारक की आधारशिला 31 अक्तूबर, 2013 को पटेल की 138 वीं वर्षगांठ के मौके पर रखी गई थी, जब पीएम नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे।
  5. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का कुल वजन 1700 टन है और ऊंचाई 522 फिट यानी 182 मीटर है। प्रतिमा अपने आप में अनूठी है। इसके पैर की ऊंचाई 80 फिट, हाथ की ऊंचाई 70 फिट, कंधे की ऊंचाई 140 फिट और चेहरे की ऊंचाई 70 फिट है।
  6. सरदार पटेल की यह मूर्ति राम वी. सुतार की निगरानी में हुई है। राम वी. सुतार को साल 2016 में सरकार ने पद्म भूषण से सम्मानित किया था। इससे पहले वर्ष 1999 में उन्हें पद्मश्री भी प्रदान किया जा चुका है।
  7. सरदार पटेल की मुख्य प्रतिमा बनाने में 1,347 करोड़ रुपये खर्च किए गए, जबकि 235 करोड़ रुपये प्रदर्शनी हॉल और सभागार केंद्र पर खर्च किये गये।
  8. वहीं 657 करोड़ रुपये निर्माण कार्य पूरा होने के बाद अगले 15 साल तक ढांचे के रखरखाव पर खर्च किए किए जाएंगे। 83 करोड़ रुपये पुल के निर्माण पर खर्च किये गये.
  9. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जापान दौरे के दौरान भी भारतीयों से बातचीत के दौरान दुनिया की इस सबसे ऊंची मूर्ति का जिक्र कर चुके हैं। साथ ही उन्हें इस मूर्ति को देखने के लिए आमंत्रित भी कर चुके हैं।
दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा  
  1. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी - सरदार पटेल की इस गगनचुंबी मूर्ति की ऊंचाई 182 मीटर यानी 597 फीट है। इस मूर्ति को बनाने में करीब 42 महीने का समय लगा है। स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का निर्माण नर्मदा नदी के तट पर नर्मदा डैम के पास किया गया है। यह दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति होगी। 
  2. स्प्रिंक टेम्पल बुद्ध - चीन में लुशान काउंटी के झाउकन टाउनशिप में बनी भगवान बुद्ध की यह अब तक दुनिया की सबसे ऊंची मर्ति थी। लेकिन भारत की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी बनने के बाद इसका स्थान अब दूसरा हो गया है। चीन की इस प्रतिमा की ऊंचाई 128 मीटर है। 
  3. लेयक्युन सेत्क्यार - 130 मीटर (427 फीट) ऊंची बुद्ध की प्रतिमा बर्मा में है। भारत की स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से पहले इस का स्थान दूसरा था। इसका निर्माण 2008 में हुआ था। 
  4. उशिकु डायबुत्सु - जापान के उशिकु में स्थित 120 मीटर (394 फीट) ऊंची इस प्रतिमा का निर्माण 1993 में हुआ। इसका बेस 10 मीटर ऊंचा है। इसका स्थान अभी तक तीसरा था।
  5. गुआयिन ऑफ द साउथ सी ऑफ सान्या - 108 मीटर (354 फीट) ऊंची प्रतिमा चीन के हैनन प्रांत में है। 
  6. द स्कल्पचर्स ऑफ द इंपीरियर्स यान एंड हॉन्ग - चीन के दो शासकों की 106 मीटर ऊंची प्रतिमा अभी तक दुनिया में पांचवें स्थान पर थी। चीनी शासक यान व हॉन्ग की इस प्रतिमा को बनाने में 20 वर्ष लगे थे और यह 2007 में बनकर पूरी हुई थी। ये प्रतिमा चीन के हैनन प्रांत में है। 
  7. सेन्डई डायकोनॉन -  जापान की यह प्रतिमा 100 मीटर (328 फीट) ऊंची है। एक एलिवेटर की मदद से पर्यटक प्रतिमा की ऊंचाई तक जा सकते हैं। 
  8. पीटर द ग्रेट - रूस के मास्को में स्थित 98 मीटर ऊंची यह प्रतिमा रूसी नौसेना के 300 साल पूरे होने के अवसर पर निर्मित की गई थी। नौसेना पीटर द ग्रेट द्वारा स्थापित की गई थी। इसे 1997 में गॉर्जियन डिजाइनर जुराब सेरेतली ने डिजाइन किया था। 1000 टन वजनी यह प्रतिमा 600 टन स्टेनलेस स्टील, ब्रॉन्ज और तांबे से बनी है। 
  9. द ग्रेट बुद्धा ऑफ थाइलैंड - थाइलैंड की यह सबसे ऊंची प्रतिमा दुनिया में नौवें स्थान पर है। इसकी ऊंचाई 92 मीटर (300 फीट) है। इसका निर्माण 1990 में शुरू हुआ था और यह 2008 में पूरा हुआ।
  10. 10वें स्थान पर जापान की कान्नन प्रतिमा आती है। 

 

Print Friendly, PDF & Email