‘हेल्थ ऑन जीईएम’ पर कार्यशाला के आयोजन के साथ 6 सप्ताह तक चलने वाली राष्ट्रीय मिशन श्रृंखला नई दिल्ली में समाप्त हो गई। कार्यशाला का आयोजन गवर्मेंट ई-मार्केटप्लेस (जीईएम) ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ मिलकर किया था। इसका उद्देश्य जीईएम के पुख्ता लाभों के आधार पर विभिन्न सरकारी एजेंसियों और देश के विभिन्न भागों के खरीददारों, आपूर्तिकर्ताओं और सक्षम विक्रेताओं को एकजुट करना था तथा इस प्लेटफॉर्म के इस्तेमाल के प्रति प्रोत्साहित करना था।
 
क्या है 
  1. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव श्रीमती प्रीति सूदान ने अपने उद्घाटन भाषण में जीईएम से आग्रह किया कि वह अपने उत्पादों और सेवाओं का विस्तार करे ताकि बड़ी मात्रा में खरीददारों की जरूरतें पूरी की जा सकें। उन्होंने कहा कि 400 उत्पादों की पहचान कर ली गई है, जो आमतौर पर इस्तेमाल किए जाते हैं। 
  2. इनकी सूची भारतीय मानक ब्यूरो को दे दी गई है ताकि उनके लिए मानक तय किए जा सकें।
  3. वाणिज्य सचिव डॉ. अनूप वधावन ने कहा कि खरीद बहुत महत्वपूर्ण और संवेदनशील विषय होता है, जिसके लिए बहुत सारे नियम, प्रक्रियाएं, पड़ताल मौजूद हैं तथा सरकारी अधिकारी कई तरह की सावधानियां भी रखते हैं।
  4. जीईएम की मुख्य कार्यकारी अधिकारी राधा चौहान ने कहा कि इस तरह का प्लेटफॉर्म जीईएम के लिए एक बड़ी उपलब्धि है, जिसके माध्यम से वह स्वास्थ्य पर चर्चा और आदान-प्रदान कर सकता है। 
  5. उन्होंने कहा कि इस समय जीईएम ने स्वास्थ्य उत्पादों के लिए 15,000 रिकॉर्ड लेन-देन किया है, जो लगभग 220 करोड़ रुपये के बराबर है।

 

Print Friendly, PDF & Email