केन्द्रीय वस्त्र मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी 16 अक्तूबर, 2018 को नई दिल्ली में छठे भारतीय अंतर्राष्ट्रीय सिल्क मेला (आईआईएसएफ) का उद्घाटन करेंगी। केन्द्रीय वस्त्र राज्यमंत्री श्री अजय टम्टा भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे। भारत दुनिया में रेशम का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है। रेशम उद्योग कृषि आधारित और श्रमजन्य उद्योग है, जो ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग 80 लाख कारीगरों और बुनकरों को लाभदायक रोजगार उपलब्ध कराता है। 
 
क्या है 
  1. देश के विभिन्न हिस्सों में निर्मित रेशम और मिश्रित रेशम उत्पादों के 108 से भी अधिक प्रदर्शक भारतीय सिल्क निर्यात संवर्द्धन परिषद (आईएसईपीसी) द्वारा प्रगति मैदान में आयोजित इस तीन दिवसीय मेले के दौरान अपने उत्पादों का प्रदर्शन करेंगे। 
  2. इस मेले में विभिन्न देशों के 218 से भी अधिक खरीदार भाग लेंगे। जम्मू- कश्मीर और पूर्वोत्तर राज्यों के कारीगर अपने क्षेत्रों के विशिष्ट उत्पादों का प्रदर्शन करेंगे, जो इस मेले में खरीदारों के लिए एक अतिरिक्त आकर्षण होगा। 
  3. यह मेला निर्यातकों के लिए अपने-अपने उत्पादों का प्रदर्शन करने और विदेशी खरीदारों के लिए खरीदारी के आदेश देने वाला मंच होगा। 
  4. इस आईआईएसएफ-2018 से सिल्क उत्पादन और मिश्रित सिल्क वस्त्रों, कपड़ों, सहायक वस्तुओं और फ्लोर कवरिंग में लगे लघु और मध्यम उद्यमों के लिए 20 मिलियन अमरीकी डॉलर से भी अधिक का व्यापार सृजित होने की उम्मीद है।
  5. केन्द्रीय सिल्क बोर्ड भारतीय सिल्क उद्योग के भविष्य के विजन को प्रदर्शित करने वाले एक ‘थीम पवेलियन’ को स्थापित कर रहा है। यह मेला खरीदारों और विक्रेताओं तथा आमंत्रित आगंतुकों के लिए ही खुला है।

 

[printfriendly]