आयकर विभाग यह घोषित करते हुए गौरवान्वित महसूस कर रहा है कि उसे मौजूदा परियोजनाओं में ‘वृद्धिपरक नवाचार’ श्रेणी में आयकर रिटर्न और अन्‍य फॉर्मों की ई-फाइलिंग परियोजना के

लिए ई-गवर्नेंस पर राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार 2016-17 के तहत रजत पुरस्‍कार प्रदान किया गया है। यह पुरस्‍कार ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में विभाग की उपलब्धियों और मौजूदा पुरस्‍कार अवधि के दौरान सफल ई-गवर्नेंस कार्यक्रमों में उसके महत्‍वपूर्ण अभिनव कदमों को ध्‍यान में रखते हुए दिया गया है। आयकर रिटर्न की ई-फाइलिंग परियोजना को वर्ष 2007-08 में ई-गवर्नेंस पर राष्‍ट्रीय पुरस्‍कारों के तहत रजत पुरस्‍कार पहले ही प्राप्‍त हो चुका है।

आयकर रिटर्न की ई-फाइलिंग परियोजना के तहत विभाग के अभिनव कदम निम्‍नलिखित हैं:
  1. इलेक्ट्रॉनिक सत्यापन कोड (ईवीसी) की शुरुआत करना- जुलाई 2015 में शुरू किये गये इस अभिनव कदम से लोग ईवीसी का उपयोग करते हुए आयकर रिटर्न एवं अन्‍य फॉर्मों का इलेक्‍ट्रॉनिक सत्‍यापन सुनिश्चित कर सकते हैं। लोग    आधार ओटीपी का इस्‍तेमाल करते हुए आधार द्वारा मुहैया कराई जाने वाली थर्ड पार्टी प्रमाणीकरण सेवाओं अथवा नेट बैंकिंग, एटीएम, बैंक खाते के पुष्टिकरण का उपयोग करते हुए बैंकों द्वारा प्रमाणीकरण या डीमैट खाते के पुष्टिकरण का उपयोग करते हुए सिक्‍योरिटी डिपोजिटरीज के जरिये ईवीसी को प्राप्‍त कर सकते हैं, जिसे रिटर्न दाखिल करने के बाद दर्ज किया जा सकता है ताकि इस प्रक्रिया को सत्‍यापित एवं पूरा किया जा सके।
  2. ई-फाइलिंग वॉल्‍ट का उपयोग करते हुए करदाता के खाते को सुरक्षित करना- इस अभिनव कदम का उद्देश्‍य ईवीसी अवधारणा से लाभ उठाते हुए करदाता के ‘माई एकाउंट’ पर लॉग-इन की प्रक्रिया के प्रमाणीकरण में एक और स्‍तर को जोड़ना और पासवर्ड को फिर से सेट करना है।    

Submit Your Query

Name 
Email 
Phone 
Query 
    
Go to top