शरीर में एचाईवी वायरस कैसे फैलता है इस बारे में वैज्ञानिकों ने नई खोज की है। अब तक इस वायरस को लेकर टेस्ट ट्यूब की सहायता से स्टडी की जाती थी, लेकिन पहली बार इसे थ्री-डायमेंशनल टिशू-लाइक वातावरण में टेस्ट किया गया। इस तरह का वातावरण मानव शरीर में पाया जाता है, जिससे अब पहली बार यह सामने आ सका है कि आखिर शरीर में सेल्स से कैसे एचआईवी फैलता है
 
 
क्या है  
  1. पिछले 30 साल से की जारी खोज में यह साफ नहीं हो सका था कि शरीर के वातावरण में आखिर एड्स के लिए जिम्मेदार एचआईवी वायरस फैलता कैसे है। अब तक इसके संबंध में जो भी टेस्ट हुए वह प्लास्टिक ट्यूब्स या फिर प्लेट पर किए गए, जो मानव कोशिकाओं में वायरस की प्रतिक्रिया को नहीं दिखा पाता था।
  2. मानव शरीर के वातावरण में वायरस फैलने की वजह का पता लगाने के लिए वैज्ञानिकों ने इमेज प्रोसेसिंग, थीअरेटिकल बायोफिजिक्स और मैथमैटिकल के एक्सपर्ट्स की भी मदद ली। 
  3. इसके जरिए उन्होंने 3डी वातावरण में सेल्स और वायरस के बर्ताव को स्टडी किया और उसे कंप्यूटर पर बनाया। इससे शरीर के जटिल कोशिका तंत्र में एचआईवी वायरस फैलने के बारे में अहम जानकारियां सामने आईं।
यूं फैलता है वायरस 
  1. रिसर्च में सामने आया कि मानव शरीर में मौजूद कोशिकाओं का तंत्र वायरस को सेल से सेल में फैलने के लिए मजबूर करता है। 
  2. सेल कल्चर का 3डी वातावरण सेल फ्री वायरस से इंफेक्शन को दबाता है, लेकिन ऐसा होने पर वायरस सीधे सेल से संपर्क कर अन्य सेल में फैलने लगता है।